top of page
syed ajmer sharif dargah

Welcome to our blog, if you are getting knowledge from our blog, then please share it with your friends and family. Thank you

HINDI  |  ENGLISH | URDU

"Verse Treasures: Ajmer Sharif's Shayari and Khwaja Garib Nawaz's Poetic Wisdom"

Updated: Sep 23, 2023

Verse Treasures: Ajmer Sharif's Shayari

Khwaja Garib Nawaz's Poetic Wisdom


"Resonating Poetry: Khwaja Garib Nawaz's Shayari, Quotes, Messages, and Manqabat"


In the realm of spiritual guidance and wisdom, the teachings of Khwaja Garib Nawaz (R.A) shine as a beacon of light, attracting millions of followers from across the globe. Through quotes, messages, and the enchanting verses of Manqabat, Hazrat Khwaja Gareeb Nawaz (R.A) continues to inspire hearts and minds, fostering love, unity, and spirituality.


The Wisdom of Khwaja Garib Nawaz

One of the most cherished teachings of Khwaja Garib Nawaz is the transformative power of association. He once said, "Sit with good people, and you will become good." This simple yet profound message underscores the profound influence of our company on our character and actions. Through his teachings, countless hearts have been purified, just like a fragrant flower.


Love and Harmony

Another fundamental teaching of Khwaja Garib Nawaz is encapsulated in the beautiful sentiment: "There is no hatred for anyone, love for everyone." This timeless message resonates with people of all backgrounds and faiths, emphasizing the universal values of love, compassion, and tolerance. It is a reminder that true spirituality transcends boundaries and embraces all of humanity.


Spreading the Message

In today's digital age, the teachings of Khwaja Garib Nawaz continue to spread far and wide through various means of communication. Millions of followers share his inspirational quotes, messages, and Manqabat on platforms such as SMS, Facebook, Twitter, Instagram, and Reels. The power of these words lies in their ability to touch the hearts of people from diverse walks of life.


The Beauty of a Transformed Life

For those who apply the teachings of Khwaja Garib Nawaz to their lives, the transformation is profound. Their lives become imbued with beauty, compassion, and a deep sense of purpose. As Khwaja Garib Nawaz emphasized, the essence of his teachings is to foster a heart free from hatred and filled with love for all.


Khwaja Garib Nawaz: A Spiritual Guide for All

The teachings of Khwaja Garib Nawaz are not limited to any specific faith or community. They are a universal guide for anyone seeking spiritual growth and a path to inner peace. His wisdom resonates with individuals from all walks of life, and his message of love and harmony transcends religious and cultural boundaries.


Embracing the Legacy

As we reflect on the inspirational quotes, messages, and Manqabat of Khwaja Garib Nawaz, we are reminded of the timeless wisdom that continues to touch the hearts of millions. His legacy lives on through the actions and beliefs of those who follow his teachings, fostering a world where love, unity, and spirituality thrive.


In conclusion, the teachings of Khwaja Garib Nawaz are a testament to the enduring power of love, compassion, and spiritual growth. They serve as a guiding light for millions of followers, inspiring them to lead lives filled with goodness and harmony, just as he envisioned.


The Collections of Khwaja Garib Nawaz Inspirational Quotes And Urs Mubarak Messages, By Hazrat Khwaja Gareeb Nawaz All over the World Using Millions of Followers, Share, Sms, Facebook Messages, Tweets and Instagaram and Reels Manqabat With lyrics



Khwaja Gharib Nawaz (R.A) Apke Farmaan Jinko Padke Insaan Apne Dilko Saaf Karleta Hai

Khwaja Garib Nawaz said, sit with good people, you will become good;

ajmer sharif shayari

Due to the teaching of Khwaja Garib Nawaz, the hearts of crores of people started smelling like a flower. Whoever applies to the teaching of Khwaja Garib Nawaz his life becomes beautiful, as Khwaja Garib Nawaz had said that,

There is no hatred for anyone, Love for everyone.


Watsapp Status Picture Khwaja Garib Nawaz (R.A)

Ajmer Sharif's Shayari

Khwaja Garib Nawaz's Poetic Wisdom"

Khwaja Garib Nawaz's Poetic Wisdom, shayari ajmer

ajmer shayari




Arif ka adna kamaal ye hai ki wo mulko maal se bezaar hojaaye.


आरिफ का अदना कमाल ये है कि वो मुल्को माल से बेज़ार होजाये.


The small miracle of the friend of God is that he turns away from the world and wealth.



Ahle irfaan zikre ilahi ke siva apni zaban se koi baat nikaltey hi nahi.


अहले इरफान ज़िक्रे इलाही के सिवा अपनी ज़बान से कोई बात निकलते ही नही.


Pious people do not let anything come out of their tongue except the mention of God.



"IRSHADAAT" Hazrat Sayedna Gharib Nawaz (R.A)​Ahle ilmo danish aur awaamo khaas sab jaantey hai ki buzurgo ke aqwaal mukhtasar jumlo par mushtamal hai magar woh umar bhar ke tajurbaati mushadaat ka khulasa aur nichod hotey hai aur bilkhusus Aulia Allah ke irshadaat to unki mukhtalif manaziley tarikat ka pata dete hai.  zail mai Sarkare Syedna Khwaja Garib Nawaz (ra) ke wo irshadaat hai jo aapne mukhtalif aukaat mai  apne murideen aur motakideen aur tamaam ki salaho falah keliye irshadaat farmaye hai aur bila shuba  uss waqt ki tarah aaj bhi bai kamo qaast utne hi mufeed hai.


​​

Ishq ki rah esi hai ki jo iss raah par padjata hai uska naamo nishan tak nahi milta .​


इश्क़ की राह ऐसी है जो इस राह पर पडजाता है उसका नामो निशान तक नही मिलता.


ahle ishq subah ki namaz padhkar jabtak aaftab na nikle ussi jagah musaley per beth kar ibadat mai masruf rehte hai.​


अहले इश्क़ सुबह की नमाज़ पढ़कर जबतक आफताब न निकले उसी जगह मुस्सले पर बैठ कर इबादत में मसरूफ रहते है.


Raahe suluk mai bohot se mard aziz aur aajiz hogaye hai.​


राहे सुलूक में बोहोत से मर्द अज़ीज़ और आजिज़ होगये हैं.


jab Allah ta'ala kisi ko apni raza dede toh woh bahisht ko kya karey.​


जब अल्लाह ता'अल्ला किसी को अपनी रज़ा देदे तो वो बहिश्त को क्या करेगा.


dost ke asrar khubsurat hai aur khubsurat ashique ke dil mai hi ghar karte hai.​


दोस्त के असरार खूबसूरत है और खूबसूरत आशिक़ के दिल मे ही घर करते है


Dost ki dosti mai agar dono jaha bhi bakhsh diye jaaye toh bhi kam hai.​


दोस्त की दोस्ती में अगर दोनों जहां भी बक्श दिए जाएं तो भी कम हैं.


Arif woh hai jo raahe khuda mai khuda ke siva kissi aur  ko na dekhe.


आरिफ वो है जो राहे खुदा में खुदा के सिवा किसी और को ना देखे.


Arif ki khaslat muhobbat mai ikhlaas hai.​


आरिफ की खसलत मुहोब्बत में इखलास है


Arifo mai saadiq wo hai jiski milkiyat mai khuch na ho na woh kisi ki mil'k ho.


आरीफों में सादिक़ वो है जिसकी मिल्कियत में कुछ ना हो ना वो किसी की मिल्क हो.


Gunah itna nukasaan nahi pohuchata jitna apne bhai ko zalil aur khawaar karna.​


गुनाह इतना नुकसान नही पोहुचता जितना अपने भाई को ज़लील और ख्वार करना.


Arif aaftaab sifat hotey hai ki unn se tamaam aalam munnawar hota hai.​


आरिफ आफताब सिफ़त होते हैं कि उन से तमाम आलम मुनव्वर होता है.


Jisko khuda dost rakhta hai uspar musibatey naazil karta hai.​


जिसको खुदा दोस्त रखता है उसपर मुसीबते नाज़िल करता है.


Aey gaafil ! uss safar ka tosha tayar kar jo tujhe darpesh hai yaani safarey aakhirat ka.​


ए गाफिल ! उस सफर का तोषा तय्यार कर जो तुझे दरपेश है यानी सफर आख़िरत का.


Ahle muhobbat wo log hai jo sirf haq ta'ala ki baat sunte hai.​Dunya faani hai aur kaarhaye dunya layani.​


Jabtak murshid ki tabyat haasil na hogi manzil par nahi pohuchega.​


Khud parasti aur nafs parasti buth parasti hai jabtak khud parasti na chohrega khuda parasti haasil na hogi.​


Arif ka kamtar darja ye hai ki sifaatey haq usmai paayi jaaye.​


Ashiq woh hai jo dono jahan se dil uthaaley.​


Jis nai khuda ko pehchan liya agar woh khalq se dur na bhaagey toh samjhlo usmai koi naimat nahi hai.​


Qiyamat ke din agar bahisht mai koi cheez pohuchegi toh woh juhad hai hai na ki (sirf) ilmo amal.


​Arif ka kamaal ye hai ki apne apne aap ko raahe khuda mai jaladey.​


Arif ka ek nisha'n ye bhi hai ki woh har waqt musqurata rehta hai.


​Koi shaks kisi ibadat se qurbe ilahi haasil nahi kar sakta ke jabtak namaz na padhe kyuki namaz hi merajul momineen hai.​


Namaz qurbe ilaahi ka zeena hai.​Jo shaks subha ki namaz ke baad ishraq tak wahi beth kar ibadat karta hai,

farishte uske liye aasman per dua karte hai.​Jis tarah subah ke waqt aaftab ki roshni badti jaati hai ussi tarah ishraaq padhne waalo ke liye Khuda ka noor badta jata hai.​


Ishraaq ki namaz padhne waale shetaan ki shetaaniyat se mehfuz rehte hai aur jab tak wo bethe rehte hai ek farishta unki bakshish ke liye Khuda se dua manga karta hai.​Namaz ek ohda hai agar iss ohde se salamti ke sath bari'uz zimma hogaya toh nijaat hai, warna Khuda ki sharmindigi ki wajah se chehra saamne na hoga.​


Sab gunaho se badkar ye gunah hai ki waqt per farz namaz na ada ki jaaye aur 2 farz ek waqt mai padhe jaaye.​Khudaaye azzowajal ne kisi ibadat ke baarey mai itni taakid nahi farmaayi jitni namaz ke liye.​Jaldi karo toba karne mai, maut aaney se pehle ! aur ujlat karo namaz ke waqt guzar jaane se pehle.​Agar namaz ke arkaan thik tor per ada na hue toh wo padhne waale ke mooh per maardi jaati hai.​



पयाम-ए-मोहम्मद

मुकम्मल है हर ऐतमाम-ए-मोहम्मद ना बदला, ना बदले, निज़ाम-ए-मोहम्मद ॥

पयाम-ए-खुदा है, पयाम-ए-मोहम्मद कलाम-ए-खुदा है, कलाम-ए-मोहम्मद ॥

तेरी तिशनगी की ख़ुदा से दुआ है मिले हौज़-ए-कौसर पे, जाम-ए-मोहम्मद ॥

कदम क्यों ना चुमूँ हर एक उम्मती के

वो आक़ा हैं जो हैं गुलाम-ए-मोहम्मद ॥

मुनव्वर हुआ नूर-ए-रहमत से सीना लिखा दिल पे जब मैने नाम-ए-मोहम्मद ॥

ख़ुदा जब मुईन-ए-मोहम्मद है "ख़ादिम"

मिटा सकता है कौन नाम-ए-मोहम्मद ॥

मोहब्बत से दिल को ना हो क्यों मोहब्बत मोहब्बत है "ख़ादिम" पयाम-ए-मोहम्मद ॥

तिशनिगी = प्यास,

मुनव्वर - प्रकाशवान




​नक्शा, ख़्वाजा-ए-उस्मान का

मेरी आंखों में है नक्शा, ख़्वाजा-ए-उस्मान का मेरे दिल में है सरापा, ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

या इलाही फिर उसी मय का, मुझे साग़र मिले जिसने मतवाला बनाया, ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

खाना-ए-अल्लाह में उसने बनाया अपना घर जिसने, दिल में घर बनाया ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

अर्श से आये मलक़, उसकी ज़ियारत के लिये

जिसने देखा रु-ए-ज़ैबा, ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

या मोईन उद्दीन तेरे, दर पर पड़ा है बे नवा हो अता, कुछ सदक़ा शाहा, ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

मुश्किलें दम भर में सब आसान मेरी हो गयीं जब ज़ुबाँ पर नाम आया ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

इस से बढ़कर और क्या करता, करम ख़्वाजा मेरा के मुझे "ख़ादिम" बनाया, ख़्वाजा-ए-उस्मान का ॥

की कोई इच्छा ना हो, सदका शाहा - शाह का उतारा,


सरापा - सर से पैर तक, -ए-ज़ैबा - खुबसूरत चेहरे वाला, बे नवा = बेपरवा



| मुईन-ए-जहाँ ।

हैदर का आस्ताँ है

मतलूबे कामला है, मक़सूदे आशिक़ाँ है, हर अहले दिल का किबला हैदर का आस्ताँ है ॥ दामन में मुर्तज़ा के सबके लिये अमाँ है, साया शहे नजफ़ का मलजाये बै कसाँ है।. आवाज़ आ रही है ये आलम-ए-विला से, शैदा है जो अली का, वो फने आशिकाँ है ॥

क्यों कुश्तगान-ए-उल्फत ये संग-ए-दर ना चूमें,

रुहे रवाने उल्फत, हैदर का आस्ताँ है ॥

क़दमों से दूर अपने या मुर्तज़ा ना रखना, ज़ैरे क़दम तुम्हारे आराम-ए-क़ल्ब-ओ-जाँ है । दस्त-ए-ख़ुदा पे बैअत करना हो जिसको करले,

दस्त-ए-अली जहाँ में क़ुदरत का तर्जुमाँ है ॥ फज़ले खुदा ना हो क्यों तेरा मुईन "ख़ादिम",

शाहे नजफ़ का तुझ पर, जब लुत्फ़े बैकरां है। क्या ख़ौफ मुश्किलों का, दोनों जहां में "खादिम", मुश्किल कुशा का हम पर, जब लुत्फे बैकरां है ॥

मतलूब जिसकी इच्छा की जाए, मकसूद-उद्देश्य, किबला-इ जत, कुश्तगान-ए-उल्फत चाहने वाले लोग, औरे क़दम-पैर के नीचे, कल्ब-ओ-ज-दिल और जान, दस्त हाथ, चैअत-मुरीद होना, तर्जुमाँ-अनुवाद



। मुईन-ए-जहाँ ।

जाम-ए-अली

छा रहा है अब्र-ए-रहमत की तरह नाम-ए-अली हो रही हैं बारीशे फ़ैज़ान-ओ-इरनाफ-ए-अली ॥

या अली कहने से क्यों हासिल न हो इर्फान-ए-हक़ दर हक़ीकत है जब नाम-ए-किबरिया नाम-ए-अली

एक नज़र में उसने दो आलम को बेख़ुद कर दिया घूँट भर भी जिसने पी ली बादा-ए-जाम-ए-अली ॥

इस से बढ़ कर और क्या होता उरुज-ए-मुर्तज़ा ख़ुदा के घर में दोश-ए-मुस्तुफा बाम-ए-अली ॥

तू भी कर दस्ते तलब, दस्त-ए-अता के सामने दोनों आलम पे है "खादिम" आज इनाम-ए-अली ॥

फैजान निरन्तर, दर चौखट, हक़ीकत वास्तव, दोश काधा, बाम कंधा, दस्त-ए-अता = देने वाला हाथ



| मुईन-ए-जहाँ ।

हुब्बे उस्माँ

ख़ुदा की क़सम उसकी क़िस्मत बड़ी है। जिसे हुब्बे उस्माँ की दौलत मिली है।

वो क्यों दर बदर ठोकरे खाए जाकर जिसे तेरा दर तेरी चौखट मिली है ।

मुबारक तवाफ़-ए-हरम हाज़ियो को मेरा क़ाबा तो ख़्वाजा तेरी गली है ॥

जहाँ बटता है शाहे उस्माँ का सदक़ा

वो बज़्म-ए-करम बज़्म-ए-हिन्दल वली है ॥

जहाँ सर बा सज़दा है सब शान वाले तुम्हें वो बुलन्दी वो रफअत मिली है ॥

वो फ़ने जहाने मोहब्बत है "ख़ादिम" जिसे उल्फत शाहे उस्मां मिली है।

क्रयाम-ए-दो आलम है उस दिल से "ख़ादिम" जिसे हुब्बे उस्मान में बे कली है ॥

तवाफ़ परिक्रमा, क़याम-ए-दो आलम दोनों संसारों का अस्तित्व हुब्ब मौहब्बत, - वे कली बेचेनी,



| मुईन-ए-जहाँ ।

ईमान ए ख़ादिम अस सलाम

अस सलाम हज़रत मुईन उद्दीन हसन राहत ए उसमान चिश्ती पाक़ तन ।।

अस सलाम ऐ जलवा ए अनवारे जात अस सलाम अए मज़हरे हुस्ने सिफात

अस सलाम इब्ने ग्यासउद्दी हसन

अस सलाम अए यादगारे पँजतन ।।

अस सलाम अए रहमते हिन्दोस्ताँ अस सलाम अए बरकते अहले जहाँ ।।

अस सलाम अए आरजू ए आशिक़ाँ

अस सलाम अए मौनिसे आशुफतगाँ ।।

अस सलाम अए रहनूमा ए असफिया अस सलाम अए पैशव ए औलिया ए.

अस सलाम अए जाने 'ख़ादिम' अस सलाम

अस सलाम ईमाने 'खादिम' अस सलाम।।


जलवा ए अनवारे जात = ख़ुदा का जलवा, अहले जहाँ दुनिया वाले, M मौनिसे आशुफतगाँ मुश्किलों को हल करने वाले



| मुईन-ए-जहाँ ।

ख़ुशी मुबारक हो

मुईन आ गए हक़ के वली मुबारक हो ज़हुरे ख़्वाजा की सब के ख़ुशी मुबारक ।।

चिराग़ ए ताख़े रिसालत नबी मुबारक हो ज़िया ए बैत ए विलायत अली मुबारक हो।।

जहान ए राज़ के सिररे ख़फी मुबारक हो निगाहे शौक के हुस्ने जली मुबारक हो।।

हुजूरे ख़्वाजा ए उसमान ए हरवनी चिश्ती ये यादगार तुम्हें दाएमी मुबारक हो।।

नसीम ए सुब्हा ये लाई है मुशदा आ ख़ादिम ख़लीली बाग को ये ताज़गी मुबारक हो।।


चिराग दिया, दाएमी हमेशा रहने वाली



| मुईन-ए-जहाँ ।

शान ख़्वाजा

नज़र जब आई, तेरी शान ख़्वाजा

दो आलम गये हैरान ख़्वाजा।।

तुम्हारे हुस्न की, वो शान ख़्वाजा दो आलम जिसपे है, कुर्बान ख़्वाजा ।।

तुम्हारी जुल्फ, मेरा दीनो ईमाँ तुम्हारा रुख, मेरा क़ुरान ख्वाजा ।।

तुम्हारे नक्शे पाक़ी, एक झलक पर

मताए दो जहाँ, कुर्बान ख़्वाजा ।। हरेक शह और लाशे कह रही है

मैं तुझ पर ताअबद, कुर्बान ख़्वाजा।।

जहाँ का ज़र्रा ज़र्रा कह रहा है

अता हो सदका ए उस्मान ख्वाजा।।

बना हर चीज़ कतरा, बहरे इरफाँ हुआ जब आपका, फैज़ान ख़्वाजा।।

निगाहे लुत्फ़ हो, "खादिम" पे अपने

बा-हक्के हज़रते उस्मान ख्वाजा।।


पाकी पवित्रता, ताअबद हमेशा रहना


| मुईन-ए-जहाँ ]

रिसालत के तरजुमाँ ख़्वाजा

आप हैं मुशफ़ीके जहाँ ख़्वाजा, आप हैं दामनें अमाँ ख़्वाजा ।। तुम रिसालत के तरजुमाँ ख़्वाजा, तुम विलायत के राज़दाँ ख़्वाजा ।। आपका साया जब है आलम पर, क्या बिगाड़ेगा आसमाँ ख़्वाजा।। बेक़रारों के वास्ते है दवा, आपकी खाके आस्ताँ ख़्वाजा।। ता क़यामत रहे फला फूला, तेरी उल्फ़त का बोस्ताँ क्या बिगड़कर बनाएगा कोई, तुम ख़्वाजा ।। जब मुझपे महरबाँ ख़्वाजा ।। शोरे महशर से आ रही है सदा, तेरे दामन में है अमाँ ख़्वाजा।। सिजदा-ए-शुक्र हो गया लाज़िम, देखकर तेरा आस्ताँ ख़्वाजा।। तुम हो जब गुल कदे की फसले बहार, कैसे आए यहां ख़िज़ाँ ख़्वाजा।।

तेरी यकताई पर तसद्दुक़ है, सिररे वहदत के राज़दाँ ख़्वाजा।।

तेरे दामन में छुप गया "ख़ादिम", जब ना पाई कहीं अमाँ ख़्वाजा।।

रिसालत = पैग़म्बरी, विलायत = रुहानियत, खाके मिट्टी, महशर क़यामत, ख़िज़ाँ = पतझड़, तसद्दुक - कुर्बान, वहदत एकत्व, सिर राज़



| मुईन-ए-जहाँ ।

पेश्वा ख़्वाजा

फ़ख़रे मिल्लत के पेश्वा ख़्वाजा कुतबे आलम के रहनुमा ख़्वाजा।।

जिससे रोशन है कल्बे अहले नज़र आपका है वो जलवा या ख़्वाजा।।

दीनो दुनियाँ लुटाता रहता है आपके दर का हर गदा ख़्वाजा।।

आप है ज़ख़्मे दिल के बख़या गर आप है दर्द की दवा ख्वाजा ।।

माँगना काम है भिकारी का आपका काम है अता ख़्वाजा।।

ख़ादिमे ज़ार तेरा ख़ादिम' है तू है मख़दूमे दो सरा ख़्वाजा।।


पेश्वा = सरदार, अहले नज़र दृष्टिवान, कल्ब मन, बखया सिलाई,



| मुईन-ए-जहाँ ।

तेरी पनाह में

ख़्वाजा पुकारूँ किसको मैं हाल-ए- तबाह में मिलता है, दिल को चैन तेरी बारगाह में ॥

महफुज़ हैं जो आ गए, तेरी पनाह में

सबके लिए पनाह है, तेरी बारगाह में ॥

ताअत गुज़ार, ज़ाहिद-ओ-रिन्दाँ, खराब-ए-हाल

दोनों हैं एक, रहमत-ए-हक़, की निगाह में ॥ कुछ भी नहीं जो तेरे करम की नज़र नहीं सब कुछ है तेरी, एक करम की निगाह में ॥

ज़ाहिद ना पूछ यार के उश्शाक़ का मुक़ाम सौ तूर देख लेते हैं वो एक आह में ||

देखें हैं मैने दोनों जहाँ दिल की आँख से लेकिन ना पाया तुम सा हसीं जलवा गाह में ॥

रहमत ने धोई फर्दे अमल आब-ए-नूर से सौ चाँद लग गये मेरे जुर्म-ए-स्याह में ॥

दोज़ख़ भी मेरे वास्ते बन जायेगी जिनाँ

है बारगाहे ख़्वाजा मुईं जब निगाह में ॥ कुर्बान किस पे जान करूँ और किस पे दिल फ़िदा उनके हज़ार जलव हैं "ख़ादिम" निगाह में ॥


ताअत फरमाबरदारी, गुजार आज्ञाकारी, आब-ए-नूर-नूर का पानी, जिनाँ स्वंग .





Hazrat Khwaja Garib Nawaz ( R.A ) ki taalimat aapke farmaan sayings teachings quotes, yaha per samjhne waali baat yeh hai ke huzur gharib nawaz sarkaar ki talimat ko jobhi insaan apna leta hai wo Allah Rabbul Izzat Ke buhat karib hojata hai ,



1,496 views

Comentarios


bottom of page